Sunday, 11 January 2015

इंतजार शायरी


 

निकलते है तेरे आशिया के आगे से,सोचते है की तेरा दीदार हो जायेगा,
खिड़की से तेरी सूरत न सही तेरा साया तो नजर आएगा

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.