Monday, 22 September 2014

महान शायरों के चंद शेर

जब भी देखा मेरे किरदार पे धब्बा कोई
देर तक बैठ के तन्हाई में रोया कोई

कैसे समझेगा बिछड़ना वो किसी का "राना"
टूटते देखा नहीं जिसने सितारा कोई

Saturday, 6 September 2014

kabhi khushi kabhi gum

Yun to zindagi mein ajeeb se mor aayenge
kabhi khushi to kabhi gham layenge,
rakhna hamesha khyaal khud ka,
kyon k aap hasenge to hum b muskurayenge...