Saturday, 26 July 2014

शायरी और कवितायें

तू बेवफ़ा है तो इक बुरी ख़बर सुन ले
कि इंतज़ार मेरा दूसरा भी करता है

हसीन लोगों से मिलने पे एतराज़ न कर
ये जुर्म वो है जो शादीशुदा भी करता है

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.