Sunday, 23 February 2014

शराबी शायरी


ऐ दस्तूर-ए-मोहब्बत,
जरा देख तो मेरा रोना,
था दिल के जो करीब,
था उसी को हमसे दूर होना,
जिसको खोने से डरते थे,
उसी को पड़ा आज खोना।

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.