Friday, 3 January 2014

शराबी की शायरी

शराबी की शायरी


दो दिलों की धड़कनों में एक साज़ होता है;
सबको अपनी-अपनी मोहब्बत पर नाज़ होता है;
उसमें से हर एक बेवफा नहीं होता;
उसकी बेवफ़ाई के पीछे भी कोई राज होता है!

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.