Wednesday, 17 April 2013

दर्द भरी प्यार की कहानी


यह आरजू नहीं कि किसी को भुलाएं हम;
न तमन्ना है कि किसी को रुलाएं हम;
जिसको जितना याद करते हैं;
उसे भी उतना याद आयें हम!

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.