Wednesday, 17 April 2013

शराबी की शायरी

लोग कहते हैं पिये बैठा हूँ मैं;
खुद को मदहोश किये बैठा हूँ मैं;
जान बाकी है वो भी ले लीजिये;
दिल तो पहले ही दिये बैठा हूँ मैं।

No comments:

Post a Comment

Note: only a member of this blog may post a comment.